Caption

2-0 से सीरीज हारने के बाद कप्तान कोहली भड़के, बताई हारने की असली वजह, जानकर हैरान होंगे आप

आकलैंड में आज भारत और न्यूजीलैंड के बीच दूसरा वनडे मैच खेला गया. जिस न्यूजीलैंड में 22 रनों से जीत लिया है. इस जीत के साथ ही न्यूजीलैंड ने यह वनडे सीरीज 2-0 से अपने नाम कर लिया है.अब इन दोनों के बीच तीसरा वनडे मैच 11 फरवरी को खेला जाएगा। चलिए बताते हैं इसके बारे में इस मैच की पूरी समरी क्या है।

इस मैच में न्यूजीलैंड ने सबसे पहले बल्लेबाजी करते हुए 50 ओवर में 8 विकेट खोकर 273 रन बनाए. जिसमे न्यूजीलैंड की तरफ से मार्टिन गुप्टिल ने सर्वाधिक 79 रन और रोस टेलर ने नवादा 73 रन बनाए. इसके बाद भारत को यह मैच जीतने के लिए 274 रन का लक्ष्य मिला.

इस लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारत की टीम 48.3 ओवर में 251 रन बनाकर ऑल आउट हो गई. जिसने भारत की तरफ से रविंद्र जडेजा और श्रेयस अय्यर ने सर्वाधिक पारी खेली लेकिन वह अपनी टीम को जीत नहीं दिला सके।

इस तरह न्यूजीलैंड दूसरा वनडे मैच 22 रनों से अपने नाम कर लिया. इस जीत के साथ न्यूज़ीलैंड ने सिरीज़ भी 2-0 से अपने नाम कर ली है. न्यूजीलैंड की तरफ से बेनेट-साउदी, डीग्रैंडहोम और जेमीसन ने मिलकर 2-2 विकेट लिए.

न्यूजीलैंड के खिलाफ वनडे सीरीज हारने के बाद भारतीय कप्तान विराट कोहली ने कहा कि इस सीरीज में दो अच्छे मैच हुए हैं और दोनों मैच प्रशंसकों के लिए बहुत अच्छा रहा. इसके बाद कोहली ने कहा कि मैं प्रभावित हूं कि हम कैसे समाप्त हुए. हमने पहले हाफ में चीजों को 197-8 से 270+ तक इसको बनवा दिया. जो मुझे लगता है कि हमने 30-40 रन अधिक दे दिए हैं और जो मेरा अनुसार इस बीच के लिए ज्यादा रन थे और यही हमारी हार का कारण बना।

लेकिन अपनी बल्लेबाजी के दूसरे भाग के साथ मजबूत वापसी की हम बल्ले से परेशानी में थे. लेकिन सैनी और जडेजा ने वास्तव में अच्छा प्रदर्शन किया. इसके अलावा श्रेयस अय्यर ने भी बल्ले से अच्छा प्रदर्शन किया कोली ने कहा कि टेस्ट और टी-20 की तुलना में इस साल वनडे बहुत प्रासंगिक नहीं है. लेकिन ऐसे लोगों को ढूंढना है जो दबाव में इस तरह खेल सके इसके आगे विराट कोहली ने कहा कि हम अंतिम गेम में बदलाव पर विचार कर सकते हैं क्योंकि अब हमारे पास खोने के लिए कुछ नहीं है. हम आक्रमक क्रिकेट खेलेंगे और परिणाम के बारे में बहुत ज्यादा चिंता नहीं करेंगे. यह अंत तक लड़ने के लिए व्यक्तियों तक है हमने उन्हें कोई संदेश नहीं भेजा क्योंकि वह नहीं है जो अपनी प्रवृत्ति आपको बता रही है।

इसके बाद कोहली ने कहा कि हमें नहीं पता था कि सैनी बल्ले से कितने अच्छे हो सकते हैं. इसलिए अगर निचला क्रम इतना अच्छा हो सकता है. तो मध्य प्र मोर्सिस क्रम को भी आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करता है.

loading...
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top