Batsman

टीम इंडिया का एकमात्र क्रिकेटर, जिसे सरकार की तरफ से मिलती हैं वीवीआईपी सुविधाएं

जैसा कि हम सभी जानते हैं कि भारतीय क्रिकेट टीम के हर खिलाड़ी को करोड़ों अरबों रुपए की कमाई हर साल होती है।इसके साथ ही इस कमाई पर वह सरकार को टैक्स भी देता है। क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर कभी भारत के लिए टॉप 10 टैक्सपेयर्स की सूची में आते थे,लेकिन अब ऐसा नहीं है। अब कई क्रिकेटर से ज्यादा पैसे कमाते हैं और टैक्स भरते हैं। इनमें विराट कोहली,महेंद्र सिंह धोनी जैसे नाम आते हैं।

लेकिन भारतीय टीम के मास्टर ब्लास्टर कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर को कई वीवीआईपी सुविधाएं सरकार की तरफ से मुफ्त मिलती हैं और ऐसा भारत सरकार की ओर से दी जाने वाली विशेष सुविधाओं के अंतर्गत किया जाता है।

चलिए आपको बताते हैं क्यों सचिन तेंदुलकर को मिलती है वीवीआइपी सुविधाएं मुफ्त में?
भारतीय टीम के पूर्व खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर भारत का सबसे बड़ा नागरिक सम्मान ‘भारत रत्न’ से सम्मानित हो चुके हैं। उन्हें यह सम्मान साल 2013 में भारत सरकार के द्वारा दिया गया था। यह सम्मान पाने वाले सचिन तेंदुलकर पहले खिलाड़ी भी हैं। नियम के अनुसार भारत आने वाले व्यक्तियों को भारत सरकार की ओर से कई वीवीआईपी जाती हैं और इसी कारण सचिन तेंदुलकर को सरकार की ओर से वीवीआइपी सुविधाएं मिलती हैं।

आपको बता दें कि सरकार की ओर से सचिन को क्या-क्या सुविधाएं मिलती हैं?

इस सम्मान को पाने वाले व्यक्ति को कोई भी रकम नहीं दी जाती सचिन या भारत रत्न पाने वाले किसी भी व्यक्ति को निम्नलिखित सुविधाएं मिलती हैं।

• फ्री यात्रा की सुविधा
भारत रत्न पा जा चुके किसी भी व्यक्ति को मुफ्त में रेलवे की यात्रा करने की सुविधा मिलती है वर रेलवे की किसी भी कुछ में मुफ्त यात्रा कर सकता है इसके अलावा दिल्ली सरकार उस व्यक्ति को मुफ्त में बस की सुविधा भी प्रदान करती है।

• शान पत्र के साथ मिलता है तमगा

भारत रत्न पाने वाले व्यक्ति को एक प्रमाण पत्र और तमगा दिया जाता है इस तमगे पर सूर्य बना होता है और बैकग्राउंड में पीपल की पत्ती की आकृति है इस तमगे पर भारत ने लिखा होता है और यह सम्मान राष्ट्रपति के द्वारा दिया जाता है।

•3. वॉरंट ऑफ प्रेसिडेंट में मिलती है जगह

भारत रत्न पाने वाले व्यक्ति को सरकार ‘वॉरंट ऑफ प्रेसिडेंट’ में जगह देती है। यह एक तरह का प्रोटोकॉल होता है। जब प्रोटोकॉल को फॉलो किया जाता है, तब उन्हें राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, राज्यपाल, पूर्व राष्ट्रपति, उपप्रधानमंत्री, मुख्य न्यायधीश, लोकसभा स्पीकर, कैबिनेट मंत्री, मुख्यमंत्री, पूर्व प्रधानमंत्री और संसद के दोनों सदनों में विपक्ष के नेता के बाद जगह मिलती है।

• विजिटिंग कार्ड पर लिख सकते हैं सम्मान का नाम

भारत ने को प्राप्त करने वाला व्यक्ति अपने विजिटिंग कार्ड पर इस सम्मान का नाम लिख सकता है। हालांकि,इसके लिए एक खास तरीका होता है वह अपने कार्य पर राष्ट्रपति द्वारा भारत रत्न से सम्मानित या भारत रत्न प्राप्त करता ही लिख सकता है।

सचिन तेंदुलकर को इन सारी सुविधाओं का लाभ मिलता है और यही सुविधाएं हैं जो सरकार सचिन तेंदुलकर को फ्री में देती हैं क्योंकि सचिन तेंदुलकर को भारत रत्न प्राप्त है।

loading...
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top