Caption

कौन है विश्व क्रिकेट के सबसे सफलतम कप्तानों में 10 कप्तान,जानिए

क्रिकेट के इतिहास में विश्व के कुछ ऐसे कप्तान रहे हैं जिन्हें सफलता के आधार पर टॉप 10 किस श्रेणी में रखा गया है और आज हम इस आर्टिकल में बताने वाले हैं कि कप्तान के तौर पर सबसे ज्यादा अंतरराष्ट्रीय मैच जीतने वाले 10 प्रमुख कप्तानों के बारे में तो चलिए जानते हैं-

● रिकी पोंटिंग – ऑस्ट्रेलिया (2002 – 2012)
रिकी पोंटिंग अंतर्राष्ट्रीय वनडे क्रिकेट में बतौर कप्तान सबसे ज्यादा मैच जीतने का रिकॉर्ड अपने नाम किया है। रिकी पोंटिंग ने अपनी कप्तानी में ऑस्ट्रेलियाई टीम को 2003 और 2007 में विश्व कप विजेता बनाया है। इसके साथ ही इन्होंने कप्तान के तौर पर 230 वनडे मैचों में 165 जीत हासिल की है। रिकी पोंटिंग वनडे क्रिकेट में 150 से ज्यादा मैच जीतने वाले इकलौते कप्तान है और इनकी कप्तानी में ऑस्ट्रेलिया टीम का जीत प्रतिशत 76 फीसदी रहा है।

● महेंद्र सिंह धोनी – भारत (2007 – 2016)
महेंद्र सिंह धोनी भारतीय टीम के एक बहुत ही अच्छे और सफल कप्तान के लिस्ट में आते हैं महेंद्र सिंह धोनी ही है जो भारत को 1983 के बाद वर्ल्ड कप दिलाने में सफल रहे हैं। महेंद्र सिंह धोनी वनडे में सबसे सफल कप्तान की सूची में दूसरे पायदान पर हैं।

आपको बता दें धोनी ने 193 मैचों में भारतीय टीम की कप्तानी की है जिसमें से 106 मैचों में टीम को जीत हासिल करवाई है। महेंद्र सिंह धोनी को बड़े टूर्नामेंट का कप्तान भी कहा जाता है। महेंद्र सिंह धोनी आईसीसी टूर्नामेंट के सभी फॉर्मेट जीतने वाले कप्तान भी है धोनी की कप्तानी में भारतीय टीम का जीत प्रतिशत 60 फ़ीसदी रहा है ।

● एलन बॉर्डर – ऑस्ट्रेलिया (1985 – 1994)
एलन बॉर्डर ने 90 के दशक में ऑस्ट्रेलियाई टीम की कप्तानी संभाल कर टीम को नई ऊंचाई तक पहुंचाया एलन बॉर्डर ने 178 मैचों की कप्तानी करते हुए 107 मैच में जीत दर्ज की। एलन बॉर्डर 100 वन डे मैच जीतने वाले दुनिया के पहले कप्तान थे। एलन बॉर्डर की कप्तानी में उनका जीत प्रतिशत 61 फ़ीसदी रहा है ।

● हैंसी क्रोनिए – दक्षिण अफ्रीका (1994 – 2000)
हैंसी क्रोनिए इस लिस्ट में चौथे नंबर पर है । इनकी कप्तानी में एक समय दक्षिण अफ्रीका टीम लगभग बन चुकी थी। हालांकि विश्वकप में हार का सिलसिला हैंसी क्रोनिए भी नहीं तोड़ पाए और विश्व कप 1999 में उनकी टीम को ऑस्ट्रेलिया टीम के हाथों हार का सामना करना पड़ा। हैंसी क्रोनिए ने 138 वनडे मैचों में कप्तानी करते हुए 99 मैचों में जीत हासिल की। हैंसी क्रोनिए की कप्तानी में उनका जीत प्रतिशत 74 फीसदी रहा।

● स्टीफन फ्लेमिंग – न्यूजीलैंड (1997- 2007)
स्टीफन फ्लेमिंग ने 1997 में न्यूजीलैंड की कप्तानी संभाली और टीम का आत्मविश्वास बढ़ाते हुए बड़े टूर्नामेंट में जीत दर्ज करना सिखाया। स्टीफन फ्लेमिंग ने 218 वनडे मैचों में कप्तानी की जिनमें 98 मैचों में न्यूजीलैंड टीम को जीत हासिल हुई। स्टीफन फ्लेमिंग की कप्तानी में न्यूजीलैंड टीम का जीत प्रतिशत 74 फीसदी रहा है।

● ग्रीम स्मिथ – दक्षिण अफ्रीका (2003 – 2011)
ग्रीम स्मिथ ने 22 साल की उम्र में दक्षिण अफ्रीका टीम की कप्तानी संभाली थी। उस समय तक स्मिथ ने सिर्फ 9 टेस्ट मैच खेले थे जिसके कारण उनका नाम टेस्ट इतिहास के तीसरे सबसे युवा कप्तान के रूप में दर्ज हो गया। स्मिथ ने 149 वनडे मैचों में दक्षिण अफ्रीका की कप्तानी की और 92 वनडे मैचों में उनकी टीम ने जीत हासिल की। ग्रीम स्मिथ का जीत प्रतिशत 64 फीसदी रहा है।

● मोहम्मद अजहरुद्दीन – भारत (1990 – 1999)

मोहम्मद अजहरुद्दीन भारतीय टीम के सबसे सफल कप्तानों में गिने जाते हैं। मोहम्मद अजहरुद्दीन की कप्तानी में भारतीय टीम ने 174 वनडे मैच खेले हैं जिसमें से 90 मैचों में जीत हासिल की।मोहम्मद अजहरुद्दीन की कप्तानी में भारतीय टीम का जीत प्रतिशत 54 फीसदी रहा है।

● अर्जुन रणतुंगा – श्रीलंका (1988 – 1999)
रणतुंगा को टीम को एकजुट करने और उनके नेतृत्व के लिए जाना जाता है। अर्जुन रणतुंगा ने 193 मैच में कप्तानी की और 89 मैचों में उनको जीत हासिल हुई । अर्जुन रणतुंगा की जीत का प्रतिशत 48 फीसदी रहा है।

● सौरव गांगुली – भारत (1999 – 2005)
सौरव गांगुली भारत के सबसे सफलतम कप्तानों में गिने जाते हैं। उन्होंने वनडे मैचों में 10000 रन पूरे किए हैं। सौरव गांगुली की कप्तानी में भारतीय टीम ने 146 वनडे मैचों में से 76 मैच जीते और 65 हारे, जबकि 5 मैच बेनतीजा रहे। सौरव गांगुली की कप्तानी में भारतीय टीम का जीत प्रतिशत 54 फीसदी रहा है।

● इमरान खान – पाकिस्तान (1982 – 1995)
इमरान खान ने 39 वर्ष की आयु में पाकिस्तान का प्रथम और एकमात्र क्रिकेट विश्वकप 1992 में अपनी कप्तानी में दिलाया । इमरान खान ने कप्तान के रूप में 48 टेस्ट मैच खेले हैं जिसमें से 14 में जीत हासिल की 8 हार गए और 26 बेनतीजा रहे। इमरान खान ने 139 वनडे मैच भी खेले हैं जिनमें 77 में जीत हासिल हुई और 57 में हार और एक मैच टाई रहा।

loading...
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

To Top